शुभंकर गिरि

Thursday, August 5, 2010

क्या काम इबादतखाने की..........


दे दे खुदा के नाम पे प्यारे ताक़त हो गर देने की.
चाह अगर तो मांग ले मुझसे हिम्मत हो गर लेने की.

इस दुनिया की रौनक से अब इस दिल का क्या काम रहा.
जब नज़रों में अक्स उभरता साकी के अल्हड़पन की.
 
नज़रों में साकी की सूरत साथी जबसे दिखती है.
मदिरा की क्या बात करुं और क्यों चर्चा मयखानों की.

उससे नाता जोड़ लिया है , अब दिल में वो बसता है.
मिलकर एकाकार हुए, क्या काम इबादतखाने की. 
- आकर्षण कुमार गिरि 

No comments:

Post a Comment

वो जो इक तीर सा तेरी नजर से निकला था।।

छोड़के मुझको मेरे दर से जब तू निकला था। जैसे आकाश फटे, खूं जिगर से निकला था।। किसी की न सुनी, सब की जान ले के गया। वो जो इक तीर सा...