शुभंकर गिरि

Friday, August 13, 2010

रिश्तों में एक बार उलझना बाकी है..............

लगता है मैं मंजिल तक आ पहुंचा हूँ
पर मंजिल से परिचय करना बाकी है.

जीवन की हर गुत्थी को सुलझा लूं पर 
रिश्तों में एक बार उलझना बाकी है.

तर्क-ए-ताल्लुक करना है तो तू कर ले 
मेरा आखिरी वादा अब भी बाकी है.

काम वफ़ा के हमने तो हर बार किये 
नाम के साथ वफ़ा का जुड़ना बाकी है.

सोच रहा हूँ आज खिलौने ले आऊँ 
मुझमे मेरा थोडा बचपन बाकी है.

सुख-दुःख हिज्र-ओ-वस्ल के मौसम चले गए 
'गिरि' का मौसम अब भी आना बाकी है. 

- आकर्षण कुमार गिरि



No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...