शुभंकर गिरि

Thursday, April 7, 2011

जहां दुनिया सहमती है, दिवाना कर गुजरता है

कभी तुमसे शिकायत की, कोई सूरत नहीं होती
कि.. मैं जब मैं नहीं होता, तो.. तुम तुम भी नहीं होती
तमाशा जिन्दगी
में वक्त के साये में होता है
कि जब सूरज नहीं होता है, परछाईं नहीं होती

न वो तेरी कहानी है, न वो मेरी कहानी है
जिसे सब इश्क कहते हैं, वो किस्सा-ए-नादानी है
सुना है इश्क के किस्सों पे वो चर्चा नहीं होती
कहीं कान्हा नहीं रोता, कहीं राधा नहीं रोती



नजर आबाद होती है, तो दिल बर्बाद होता है
जिगरवालों की बस्ती में, तमाशा खूब होता है
  मैं तुझसा भी बन सकता था ऐ साथी, मगर सुन ले
जहां दुनिया सहमती है, दिवाना कर गुजरता है

                                               आकर्षण

दिवाली... संघर्षों का जश्न....

एक अकेले दीपक से दिवाली नहीं होती। दिवाली होती है अनगिन छोटे छोटे दीयों से। अंधेरे को दूर तो कोई भी भगा सकता है। बल्ब, ट्यूब, एलई...