शुभंकर गिरि

Wednesday, August 11, 2010

मोहब्बत का एक आशियाना तो हो..............

मुझे ऐसे दर से बचाना सनम
जहाँ तुम हो और कोई दुआ भी न हो.

बहुत थक गया हूँ तेरे प्यार में
मोहब्बत का एक आशियाना तो हो.

कोई शख्स ऐसा न ढूंढे मिला
दिल लगाया हो जिसने और हारा न हो.

खुदा ऐसा दिन क्या कभी आयेगा?
बेवफ़ाई का जिस दिन बहाना न हो.

शोखियों में तेरी घोल दी ये गज़ल
भले 'गिरि' न हों पर तराना तो हो.

-आकर्षण  कुमार गिरि


No comments:

Post a Comment

कितनी बेअक्ल जिंदगानी है?

थोड़ी सुननी, बहुत सुनाानी है। रात है, नींद है, कहानी है।। सबको मदहोश कर गयी है वो। एक खुशबू जो ज़ाफरानी है।। इश्क में मुस्कुरा...