शुभंकर गिरि

Thursday, July 29, 2010

चांद को मुंह चिढाना चाहता हूँ ......

चांद को मुंह चिढाना चाहता हूँ.
मैं तारों से निभाना चाहता हूँ.

मशीयत से कहो चाहे न मुझको
ज़मीन पर घर बनाना चाहता हूँ

ये दम है कि निकलता ही नहीं
मैं एक वादा निभाना चाहता हूँ.

मुझे बेकद्र दुनिया क्योंकर समझे
ज़माने को बदलना चाहता हूँ.

No comments:

Post a Comment

वो जो इक तीर सा तेरी नजर से निकला था।।

छोड़के मुझको मेरे दर से जब तू निकला था। जैसे आकाश फटे, खूं जिगर से निकला था।। किसी की न सुनी, सब की जान ले के गया। वो जो इक तीर सा...