शुभंकर गिरि

Sunday, October 24, 2010

खूबसुरत सनम शुक्रिया

खूबसुरत सनम शुक्रिया
आप नज़रें चुरा लीजिये
 
मेरी आंखें तो बस में नहीं
आप काजल लगा लीजिये

जिंदगी घिस न जाये कहीं
हाथ आगे बढा दीजिये

बात शेरों से बनती नहीं
मेरे लब पे रहा कीजिये

भीड़ ज्यादा है बाज़ार में
'गिरि' के दिल में रहा कीजिये 

No comments:

Post a Comment

कितनी बेअक्ल जिंदगानी है?

थोड़ी सुननी, बहुत सुनाानी है। रात है, नींद है, कहानी है।। सबको मदहोश कर गयी है वो। एक खुशबू जो ज़ाफरानी है।। इश्क में मुस्कुरा...