शुभंकर गिरि

Tuesday, December 29, 2009

जो गुजर गया सो गुजर गया

जब तेरी राह से होकर मेरा जीवन गुजर गया
कितनी तन्हाईओं के साथ मैं तनहा गुजर गया

एक हंसी आयी थी लब पे, अब उसे क्या सोचना
मील का पत्थर था एक, जो गुजर गया सो गुजर गया

उसके दिल तक पहुँचने का बहुत सीधा सा रास्ता था
एक मैं ही था, जो गलत राह से गुजर गया

तोप, तलवारें, न खंजर, बर्छियों का खौफ दे
इक  हमारा दिल ही था, जो गुजर गया सो गुजर गया

जाते जाते वो मेरे सजदे को आया था 'गिरि'
एक इन्सां उसमे था, जो गुजर गया सो गुजर गया   

दिवाली... संघर्षों का जश्न....

एक अकेले दीपक से दिवाली नहीं होती। दिवाली होती है अनगिन छोटे छोटे दीयों से। अंधेरे को दूर तो कोई भी भगा सकता है। बल्ब, ट्यूब, एलई...