शुभंकर गिरि

Tuesday, December 29, 2009

क्योंकि तुम मेरे अपने हो.....

प्रश्न - गैरों को ग़ज़ल सुनाते हो
मुझको केवल मुक्तक क्यों ?

औरों से हंस हंस मिलते हो
मेरी खातिर पत्थर क्यों ?

मुंहदेखी बातें करते हो
तुम जिस जिस से मिलते हो

मेरी खातिर मेरे साजन
तेरी जिह्वा नश्तर क्यों ?

उत्तर - क्योंकि तुम मेरे अपने हो.....

No comments:

Post a Comment

कितनी बेअक्ल जिंदगानी है?

थोड़ी सुननी, बहुत सुनाानी है। रात है, नींद है, कहानी है।। सबको मदहोश कर गयी है वो। एक खुशबू जो ज़ाफरानी है।। इश्क में मुस्कुरा...