शुभंकर गिरि

Wednesday, February 26, 2014

सुना है इक नया किस्सा, यूं ही हर बार गढ़ते हो

तुम्हारी प्यार की बातों में, इक किस्सा पुराना है
किसी का कर्ज है तुमपर, वो भी हमको चुकाना है। 
मेरी दीवानगी को तुम न समझे हो, न समझोगे
जिसे कल गा रहे थे तुम, उसे सबको सुनाना है।





तेरी आंखों के हर सपने को, सीने में सजा लूंगा
तेरी जज्बात की बातों को, होठों में छुपा लूंगा।
बता, मैं दिल की धड़कन को छुपाऊंगा भला कैसे?
जो धड़कन तेज होती है, तमाशा खूब होता है।





यही शिकवा है बस.. तुमसे, जो जी चाहे वो करते हो
कि तुम जज्बात की बातें, भरी महफिल में करते हो।
तेरी दीवानगी में कुछ न हो, पर नाम तो होगा
सुना है इक नया किस्सा, यूं ही, हर बार गढ़ते हो।

                           - आकर्षण कुमार गिरि


 

3 comments:

  1. मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    ReplyDelete
  2. आपका ब्लॉग मुझे बहुत अच्छा लगा, और यहाँ आकर मुझे एक अच्छे ब्लॉग को फॉलो करने का अवसर मिला. मैं भी ब्लॉग लिखता हूँ, और हमेशा अच्छा लिखने की कोशिस करता हूँ. कृपया मेरे ब्लॉग पर भी आये और मेरा मार्गदर्शन करें.

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/
    http://kahaniyadilse.blogspot.in/

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब। अच्‍छी रचना प्रस्‍तुत करने के लिए धन्‍यवाद।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...