शुभंकर गिरि

Monday, April 26, 2010

टूटे हुए मन

टूटे हुए मन
इतना मत टूट...
ऐसे मत टूट...
कि गुजर जाए सारी उम्र
टुकड़ा टुकड़ा
बटोरने में...........

1 comment:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...